Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » बिन पेंदी का लोटा, अर्थ, प्रयोग(Bin pendi ka lota)

बिन पेंदी का लोटा, अर्थ, प्रयोग(Bin pendi ka lota)

"सुभाष की कहानी बिन पेंदी का लोटा पर आधारित", "बिन पेंदी का लोटा मुहावरा चित्र", "Budhimaan.com हिंदी मुहावरे"

अर्थ: जो व्यक्ति अपने विचार या भावनाओं कोअधिक समय तक स्थिर नहीं रख सकता, उसे ‘बिन पेंदी का लोटा’ कहा जाता है।

उत्पत्ति: जैसा कि मुहावरे में ही दिखाया गया है, एक लोटा जिसमें पेंदी (अधार) नहीं होती, वह आसानी से लुढ़क सकता है। वही स्थिति एक व्यक्ति पर भी लागू होती है, जो आसानी से अपनी जगह, विचार, मान्यता या संकल्पनाओं को बदल देता है।


उपयोग: जब कोई व्यक्ति अकेला अपनी सोच या मान्यता में परिवर्तन करता है बिना किसी ठोस कारण के, तब उसे ‘बिन पेंदी का लोटा’ कहा जा सकता है।

उदाहरण:

-> अनुभव आजकल हर बार अपनी पार्टी की विचारधारा बदल देता है, वह तो बिल्कुल ‘बिन पेंदी का लोटा’ हो गया है।

-> अगर तुम अपनी मान्यताएं हर बार बदलते रहोगे, तो लोग तुम्हें ‘बिन पेंदी का लोटा’ समझेंगे।

निष्कर्ष: जीवन में स्थिरता और ठोसता जरूरी है। ‘बिन पेंदी का लोटा’ मुहावरा हमें यह सिखाता है कि अधिक समय तक अनिश्चितता में रहना या बिना सोचे-समझे अपनी स्थिति को बदलना अच्छा नहीं है। अपनी मान्यताओं और मूल्यों पर विश्वास करना और उन्हें निभाना ही असली जीवन है।

बिन पेंदी का लोटा मुहावरा पर कहानी:

सुभाष नगर का प्रसिद्ध व्यक्ति था। हर कुछ समय पर वह अलग-अलग धंधे में हाथ आजमा रहा होता था। पहले वह जूतों का कारोबार करता था, फिर उसने मोबाइल की दुकान खोली, और अब वह गाड़ी बेच रहा था। उसका मानना था कि हर धंधे में अधिक लाभ है।

सुभाष की अदृढ़ता सिर्फ व्यापार में ही नहीं थी, बल्कि उसकी विचारधारा में भी थी। एक समय था जब वह समाजवादी विचारधारा का समर्थन करता था, और अब उसे पूंजीवाद ही ठीक लगता था। लोग उसे देखकर कहते थे, “सुभाष तो बिल्कुल ‘बिन पेंदी का लोटा’ हो गया है।”

एक दिन, सुभाष के पुराने दोस्त विकास नगर वापस लौटा। विकास ने सुभाष को उसकी अस्थिरता पर समझाया। उसने कहा, “सुभाष, जीवन में स्थिरता का महत्व है। हर बार विचारधारा बदलने से तुम्हारी विश्वसनीयता कम हो रही है। अपनी मान्यताओं पर विश्वास करो और उन्हें अपनाओ।”

सुभाष ने विकास की बातों पर गहरा विचार किया और फैसला किया कि वह अब एक ही धंधे में स्थिर रहेगा और अपनी मान्यताओं को भी दृढ़ता से अपनाएगा।

संदेश: जीवन में स्थिरता और अपनी मान्यताओं पर विश्वास होना चाहिए। ‘बिन पेंदी का लोटा’ बनने से बेहतर है कि हम अपने आप को और अपनी मान्यताओं को समझें और उन पर अड़े रहें।

शायरी:

बिन पेंदी के लोटे सा वक़्त फिसलता जाए,

मज़हब, सोच, विचार में, जो जीवन संग ही न आए।

ज़िंदगी के इस मेले में, कुछ ठहरे, कुछ बदले,

कितनों की जो अस्थिरता, मोहब्बत में डूब जाए।

 

बिन पेंदी का लोटा शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of बिन पेंदी का लोटा – Bin pendi ka lota Idiom:

Introduction: The term ‘Bin pendi ka lota’ refers to a person who cannot maintain their beliefs or emotions consistently for an extended period.

Origin: As illustrated in the idiom itself, a pot without a base (Pendi) can tip over easily. This situation also applies to a person who readily changes their place, thoughts, beliefs, or conceptions.

Usage: When someone frequently changes their mindset or belief without a solid reason, they can be referred to as ‘Bin pendi ka lota’.

Usage:

-> These days, Anubhav keeps changing the ideology of his party; he has truly become a ‘Bin pendi ka lota’. 

-> If you keep altering your beliefs, people will consider you a ‘Bin pendi ka lota’.

Conclusion: Stability and firmness are essential in life. The idiom ‘Bin pendi ka lota’ teaches us that it’s not good to remain in uncertainty for long or change our situation without contemplation. Trusting our beliefs and values and upholding them is what real living is about.

Story of ‌‌Bin pendi ka lota Idiom in English:

Subhash was a well-known figure in Nagar. Every so often, he tried his hand at different businesses. Initially, he was into the shoe business, then he opened a mobile shop, and now he was selling cars. He believed that there’s high profit in every venture.

Subhash’s inconsistency wasn’t just limited to his businesses, but also reflected in his ideologies. There was a time when he supported socialist views, and now he was leaning towards capitalism. People would look at him and say, “Subhash has truly become a ‘Bin pendi ka lota’.”

One day, Subhash’s old friend Vikas returned to Nagar. Vikas spoke to Subhash about his instability. He said, “Subhash, stability in life is essential. Changing your views every time is diminishing your credibility. Have faith in your beliefs and adopt them.”

Subhash pondered deeply over Vikas’s words and decided that from now on, he would remain consistent in one business and firmly adhere to his beliefs.

Message: There should be stability and faith in our beliefs in life. Instead of becoming a ‘Bin pendi ka lota’, it’s better to understand ourselves and our values and stick to them.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

घर का जोगी जोगड़ा कहावत छवि, प्रेमचंद्र का ज्ञान, Budhimaan.com पर प्रेरणादायक कहानी, गाँव के संत का प्रवचन, निकटता और सम्मान का चित्रण
Kahavaten

घर का जोगी जोगड़ा, आन गाँव का सिद्ध, अर्थ, प्रयोग(Ghar ka jogi jogda, Aan gaon ka siddh)

परिचय: “घर का जोगी जोगड़ा, आन गाँव का सिद्ध” यह हिंदी की एक प्रचलित कहावत है, जिसका अर्थ है कि अक्सर लोग अपने घर या

Read More »
जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ कहावत छवि, अमन की आविष्कारशीलता, Budhimaan.com पर प्रेरणादायक कहानी, गाँव में नई मशीन का प्रदर्शन, कठिन परिश्रम की सफलता का चित्रण
Kahavaten

जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ, अर्थ, प्रयोग(Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith)

परिचय: “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” यह हिंदी की एक प्रसिद्ध कहावत है, जो दृढ़ संकल्प और कठिन परिश्रम के महत्व को दर्शाती

Read More »
चील के घोसले में माँस कहाँ कहावत छवि, Budhimaan.com पर अनुभव की कहानी, व्यवसायिक संघर्ष का चित्रण, अनुभव का किराना दुकान, बड़ी कंपनी बनाम छोटा व्यवसाय
Kahavaten

चील के घोसले में माँस कहाँ, अर्थ, प्रयोग(Cheel ke ghosle mein maans kahan)

परिचय: “चील के घोसले में माँस कहाँ” यह हिंदी की एक प्रचलित कहावत है, जो यह बताती है कि कुछ स्थानों या परिस्थितियों में सफलता

Read More »
चोर लाठी दो जने कहावत चित्र, Budhimaan.com पर अंश और पिता की कहानी, एकता और साहस का प्रतीक, गाँव के परिदृश्य में वीरता, चुनौती का सामना करते पिता-पुत्र
Kahavaten

चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले, अर्थ, प्रयोग(Chor lathi do jane aur ham baap poot akele)

परिचय: “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले” यह हिंदी की एक प्रचलित कहावत है, जो बल और साहस के महत्व को दर्शाती

Read More »
"चंदन-की-चुटकी-भरी-कहावत-इलस्ट्रेशन", "विशाल-और-अभय-की-प्रेरक-कहानी", "छोटे-सुंदर-घर-का-चित्र", "गुणवत्ता-बनाम-मात्रा-विचार", "Budhimaan.com-हिंदी-कहावत"
Kahavaten

चंदन की चुटकी भरी, गाड़ी भरा न काठ, अर्थ, प्रयोग(Chandan ki chutki bhari, Gadi bhara na kaath)

परिचय: चंदन की चुटकी भरी, गाड़ी भरा न काठ, इस कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि चंदन की थोड़ी मात्रा भी महत्वपूर्ण होती है, जबकि

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।