Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » भंगी की पहुँच नाली तक, अर्थ, प्रयोग(Bhangi ki pahunch nali tak)

भंगी की पहुँच नाली तक, अर्थ, प्रयोग(Bhangi ki pahunch nali tak)

“भंगी की पहुँच नाली तक” एक पारंपरिक हिंदी मुहावरा है, जिसका इस्तेमाल आमतौर पर व्यक्ति की सीमित क्षमता या स्थिति को दर्शाने के लिए किया जाता है।

परिचय: यह मुहावरा सामाजिक संदर्भों में उपयोग किया जाता है, जिसमें व्यक्ति की सामाजिक या व्यावसायिक स्थिति को उसकी सीमाओं के रूप में देखा जाता है। यह अक्सर उन परिस्थितियों में इस्तेमाल होता है जहां किसी व्यक्ति की क्षमता या प्रभाव की सीमा को दिखाना हो।

अर्थ: “भंगी की पहुँच नाली तक” का अर्थ है कि किसी व्यक्ति की पहुँच या क्षमता बहुत सीमित है। यहाँ ‘भंगी’ शब्द का प्रयोग पुराने समय में एक विशेष समुदाय के लोगों के लिए होता था जिनका काम नाली साफ करना होता था। इस मुहावरे का उपयोग व्यक्ति की सीमित क्षमता या पहुँच को दर्शाने के लिए होता है।

प्रयोग: यह मुहावरा तब प्रयोग किया जाता है जब किसी व्यक्ति की क्षमता या प्रभाव की सीमा को बताना हो।

उदाहरण:

-> सुरेंद्र को बड़े प्रोजेक्ट्स का अनुभव नहीं है, उसकी पहुँच तो छोटे कामों तक ही सीमित है, यानि ‘भंगी की पहुँच नाली तक’।

-> वह अपने छोटे व्यवसाय में ही खुश है, उसकी ‘भंगी की पहुँच नाली तक’ है।

निष्कर्ष: “भंगी की पहुँच नाली तक” मुहावरा व्यक्ति की सीमित क्षमता या पहुँच को दर्शाता है। यह हमें यह भी बताता है कि हर व्यक्ति की अपनी-अपनी क्षमताएं और सीमाएँ होती हैं, और हमें इसे स्वीकार करते हुए अपने जीवन में आगे बढ़ना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

भंगी की पहुँच नाली तक मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गांव में एक साधारण किसान रहता था, जिसका नाम था मुनीश। मुनीश बहुत ही मेहनती और ईमानदार व्यक्ति था। वह अपने छोटे से खेत में दिन-रात काम करता और अपने परिवार का पालन-पोषण करता।

एक दिन, गांव में एक बड़ा व्यापारी आया, जिसने बड़े जोर-शोर से घोषणा की कि वह गांव में एक बड़ा उद्योग स्थापित करना चाहता है और इसके लिए उसे कुशल और अनुभवी लोगों की जरूरत है। मुनीश ने यह सुनकर सोचा कि यह उसके लिए एक सुनहरा अवसर है और वह भी इस उद्योग में काम करने के लिए व्यापारी के पास गया।

व्यापारी ने मुनीश को देखा और पूछा, “तुम्हारे पास क्या अनुभव है?” मुनीश ने उत्तर दिया, “मैंने अपनी जिंदगी भर खेती की है।” व्यापारी मुस्कुराया और बोला, “तुम्हारी मेहनत और ईमानदारी की मैं कद्र करता हूँ, लेकिन इस उद्योग के लिए तुम्हारा अनुभव पर्याप्त नहीं है। तुम्हारी पहुँच तो ‘भंगी की पहुँच नाली तक’ है।”

मुनीश ने यह सुनकर महसूस किया कि व्यापारी सही कह रहा है। उसने समझा कि हर व्यक्ति की अपनी क्षमताएं और सीमाएँ होती हैं, और उसे अपनी सीमाओं को स्वीकार करते हुए अपने काम में आगे बढ़ना चाहिए।

इस कहानी से हमें सीखने को मिलता है कि “भंगी की पहुँच नाली तक” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि हमें अपनी क्षमताओं और सीमाओं को समझना चाहिए और उसके अनुसार ही अपनी जीवन यात्रा को आगे बढ़ाना चाहिए।

शायरी:

इस दुनिया में हर किसी की हद होती है,

कुछ की पहुँच आसमान, कुछ की सिर्फ नाली तक।

जैसे नदी का हर कतरा सागर को नहीं छू पाता,

हर ख्वाहिश तकदीर से, अपनी राह नहीं पाता।

कोई बनता है सूरज, चमकता दूर तक,

कोई रहता है ‘भंगी’, उसकी पहुँच नाली तक।

हर किसी की अपनी किस्मत, अपनी तकदीर है,

जीवन की इस राह में, हर कदम पर एक तस्वीर है।

मंजिलें भी रोती हैं, जब ख्वाब अधूरे रह जाते हैं,

‘भंगी’ की तरह, जब अरमान नाली में बह जाते हैं।

लेकिन याद रखना, जीवन में हर छोटी चीज का मोल होता है,

हर एक का अपना रोल, अपना एक खोल होता है।

चाहे कितनी भी हों बाधाएँ, अपनी राह बनानी होती है,

‘भंगी’ की पहुँच नाली तक, पर उसकी भी कहानी होती है।

 

भंगी की पहुँच नाली तक शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of भंगी की पहुँच नाली तक – Bhangi ki pahunch nali tak Idiom:

The idiom “भंगी की पहुँच नाली तक” is a traditional Hindi idiom commonly used to depict a person’s limited capability or status.

Introduction: This proverb is used in social contexts, where a person’s social or professional status is viewed as their limitations. It is often employed in situations to demonstrate the limits of someone’s abilities or influence.

Meaning: “भंगी की पहुँच नाली तक” means that a person’s reach or capability is very limited. Here, the term ‘भंगी’ (Bhangi) historically referred to a specific community whose job was cleaning drains. The idiom is used to express the limited capacity or reach of a person.

Usage: This idiom is used when one needs to indicate the limitations of a person’s abilities or influence.

Usage:

-> Surendra has no experience in handling big projects; his reach is limited to smaller tasks, which is like saying ‘भंगी की पहुँच नाली तक’ (A sweeper’s reach is only till the drain).

-> He is happy in his small business; his capability is ‘भंगी की पहुँच नाली तक’ (limited like a sweeper’s to the drain).

Conclusion: The idiom “भंगी की पहुँच नाली तक” illustrates a person’s limited capabilities or reach. It also tells us that every individual has their own abilities and limits, and we should accept these and move forward in life accordingly.

Story of ‌‌Bhangi ki pahunch nali tak Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a simple farmer named Munish. Munish was a very hardworking and honest person. He worked day and night in his small farm and took care of his family.

One day, a big businessman came to the village and announced loudly that he wanted to establish a large industry in the village and needed skilled and experienced people for it. Hearing this, Munish thought it was a golden opportunity for him and went to the businessman to work in this industry.

The businessman looked at Munish and asked, “What experience do you have?” Munish replied, “I have spent my life farming.” The businessman smiled and said, “I appreciate your hard work and honesty, but your experience is not sufficient for this industry. Your reach is like ‘भंगी की पहुँच नाली तक’ (a sweeper’s reach only till the drain).”

Hearing this, Munish realized that the businessman was right. He understood that every person has their own capabilities and limitations, and he should accept his limits and move forward in his work.

This story teaches us that the proverb “भंगी की पहुँच नाली तक” instructs us to understand our capabilities and limitations and to move forward in life accordingly.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का उपयोग सामाजिक संदेशाएँ देने में किया जा सकता है?

हाँ, इस मुहावरे का उपयोग सामाजिक समस्याओं या किसी असफल प्रयास को व्यक्त करने के लिए किया जा सकता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस संदर्भ में किया जा सकता है?

यह मुहावरा विशेषकर उन स्थितियों के लिए उपयुक्त है जब कोई कार्य अधूरा या असफल रह जाता है और उसे पूरी तरह से समाप्त किया जाता है।

“भंगी की पहुँच नाली” का मुहावरा का क्या अर्थ है?

“भंगी की पहुँच नाली” का अर्थ है किसी कार्य को निष्क्रियता या समाप्ति की स्थिति में देखना।

इस मुहावरे का विशेष उपयोग किस प्रकार के कार्यों में किया जा सकता है?

इसे उन कार्यों के संदर्भ में उपयोग किया जा सकता है जो असफलता का सामना कर रहे हैं और उन्हें पूरी तरह से समाप्त किया जा रहा है।

क्या इस मुहावरे का विरोधाभास है?

नहीं, यह मुहावरा नकारात्मक भावनाओं को उत्पन्न नहीं करता है, बल्कि उसका उपयोग असफलता के प्रति आत्म-समर्पण को दर्शाने के लिए किया जा सकता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।